(मुझे अपने आसपा के सभी साथियो पर गर्व है) "राष्ट्रीय अध्यक्ष गौतम भारती"

5c4ab75049a64.jpg

बाज पक्षी जिसे हम ईगल या शाहीन भी कहते है। जिस उम्र में बाकी परिंदों के बच्चे चिचियाना सीखते है उस उम्र में एक मादा बाज अपने चूजे को पंजे में दबोच कर सबसे ऊंचा उड़ जाती है। पक्षियों की दुनिया में ऐसी Tough and tight training किसी भी ओर की नही होती।
मादा बाज अपने चूजे को लेकर लगभग 12 Kmt. ऊपर ले जाती है। जितने ऊपर अमूमन जहाज उड़ा करते हैं और वह दूरी तय करने में मादा बाज 7 से 9 मिनट का समय लेती है।
यहां से शुरू होती है उस नन्हें चूजे की कठिन परीक्षा। उसे अब यहां बताया जाएगा कि तू किस लिए पैदा हुआ है? तेरी दुनिया क्या है? तेरी ऊंचाई क्या है? तेरा धर्म बहुत ऊंचा है और फिर मादा बाज उसे अपने पंजों से छोड़ देती है।
धरती की ओर ऊपर से नीचे आते वक्त लगभग 2 Kmt. उस चूजे को आभास ही नहीं होता कि उसके साथ क्या हो रहा है। 7 Kmt. के अंतराल के आने के बाद उस चूजे के पंख जो कंजाइन से जकड़े होते है, वह खुलने लगते है।
लगभग 9 Kmt. आने के बाद उनके पंख पूरे खुल जाते है। यह जीवन का पहला दौर होता है जब बाज का बच्चा पंख फड़फड़ाता है।
अब धरती से वह लगभग 3000 मीटर दूर है लेकिन अभी वह उड़ना नहीं सीख पाया है। अब धरती के बिल्कुल करीब आता है जहां से वह देख सकता है उसके स्वामित्व को। अब उसकी दूरी धरती से महज 700/800 मीटर होती है लेकिन उसका पंख अभी इतना मजबूत नहीं हुआ है की वो उड़ सके।
धरती से लगभग 400/500 मीटर दूरी पर उसे अब लगता है कि उसके जीवन की शायद अंतिम यात्रा है। फिर अचानक से एक पंजा उसे आकर अपनी गिरफ्त मे लेता है और अपने पंखों के दरमियान समा लेता है।
यह पंजा उसकी मां का होता है जो ठीक उसके उपर चिपक कर उड़ रही होती है। और उसकी यह ट्रेनिंग निरंतर चलती रहती है जब तक कि वह उड़ना नहीं सीख जाता।
यह ट्रेनिंग एक कमांडो की तरह होती है।. तब जाकर दुनिया को एक बाज़ मिलता है अपने से दस गुना अधिक वजनी प्राणी का भी शिकार करता है।
हिंदी में एक कहावत है... "बाज़ के बच्चे मुँडेर पर नही उड़ते।"
बेशक आज हमारे पदाधिकारी व कार्यकर्ता खुद को छोटी पार्टी का मानते हो पर अभी तो मुश्किलों से रूबरू होना बाकी है। हम कोई एक दो राज्यो में लड़ने वाले राजनीतिक दल नही हम जज्बा रखते है कि पुर हिंदुस्तान में अपने कमांडो जैसे तेज़ ईमानदार कार्यकर्ताओ को चुनाव जीता कर एक नया कीर्तिमान स्थापित करे , यकीन रखे आप मैं आपके साथ हर पल हैं आप के होसलो को टूटने नही दूंगा आसपा का निर्माण नई देश मे एक नई क्रांति लनेबको हुआ है।इसमें कमजोर सिपाही नही बुलंद होसलो वाले आ धैर्य के साथ पारी के नियमो का पालन करने वाले योद्धाओ / कार्यकर्ताओ की जरूरत है।आप खुद को राजनीतिक व सामाजिक मुश्किलों से रूबरू कराइए, खुद को भ्रष्ट लोगो से व विपक्षी से लड़ना सिखाए। बिना आवश्यकता के भी राजनीति जगत में संघर्ष करना सीखिए। के साथियो को उनकी सोच ने "ब्रायलर मुर्गे" जैसा बना दिया है जिसके पास मजबूत टंगड़ी(आपका साथी गौतम भारती का अनुभव) तो है पर चल नही सकता। वजनदार पंख(आसपा) तो है पर उड़ नही सकता क्योंकि...
_*"गमले के पौधे और जंगल के पौधे में बहुत फ़र्क होता है।"
_
आप के हर देश हित व लोक हित के काम मे मैं गौतम भारती आपके साथ हूँ।

अगर किसी साथी या कार्यकर्ता को कोई कष्ट हुआ हो तो दिल से माफी मांगता हूँ।

जय हिंद, जय भारत,
आपका साथी,
गौतम भारती,
सेवक/अध्यक्ष,
आसपा,
चुनाव निशान,
(निब पेन सात किरणों के साथ)

**(मुझे अपने आसपा के सभी साथियो पर गर्व है) "राष्ट्रीय अध्यक्ष गौतम भारती"** ![5c4ab75049a64.jpg](serve/attachment&path=5c4ab75049a64.jpg) बाज पक्षी जिसे हम ईगल या शाहीन भी कहते है। जिस उम्र में बाकी परिंदों के बच्चे चिचियाना सीखते है उस उम्र में एक मादा बाज अपने चूजे को पंजे में दबोच कर सबसे ऊंचा उड़ जाती है। पक्षियों की दुनिया में ऐसी Tough and tight training किसी भी ओर की नही होती। मादा बाज अपने चूजे को लेकर लगभग 12 Kmt. ऊपर ले जाती है। जितने ऊपर अमूमन जहाज उड़ा करते हैं और वह दूरी तय करने में मादा बाज 7 से 9 मिनट का समय लेती है। यहां से शुरू होती है उस नन्हें चूजे की कठिन परीक्षा। उसे अब यहां बताया जाएगा कि तू किस लिए पैदा हुआ है? तेरी दुनिया क्या है? तेरी ऊंचाई क्या है? तेरा धर्म बहुत ऊंचा है और फिर मादा बाज उसे अपने पंजों से छोड़ देती है। धरती की ओर ऊपर से नीचे आते वक्त लगभग 2 Kmt. उस चूजे को आभास ही नहीं होता कि उसके साथ क्या हो रहा है। 7 Kmt. के अंतराल के आने के बाद उस चूजे के पंख जो कंजाइन से जकड़े होते है, वह खुलने लगते है। लगभग 9 Kmt. आने के बाद उनके पंख पूरे खुल जाते है। यह जीवन का पहला दौर होता है जब बाज का बच्चा पंख फड़फड़ाता है। अब धरती से वह लगभग 3000 मीटर दूर है लेकिन अभी वह उड़ना नहीं सीख पाया है। अब धरती के बिल्कुल करीब आता है जहां से वह देख सकता है उसके स्वामित्व को। अब उसकी दूरी धरती से महज 700/800 मीटर होती है लेकिन उसका पंख अभी इतना मजबूत नहीं हुआ है की वो उड़ सके। धरती से लगभग 400/500 मीटर दूरी पर उसे अब लगता है कि उसके जीवन की शायद अंतिम यात्रा है। फिर अचानक से एक पंजा उसे आकर अपनी गिरफ्त मे लेता है और अपने पंखों के दरमियान समा लेता है। यह पंजा उसकी मां का होता है जो ठीक उसके उपर चिपक कर उड़ रही होती है। और उसकी यह ट्रेनिंग निरंतर चलती रहती है जब तक कि वह उड़ना नहीं सीख जाता। यह ट्रेनिंग एक कमांडो की तरह होती है।. तब जाकर दुनिया को एक बाज़ मिलता है अपने से दस गुना अधिक वजनी प्राणी का भी शिकार करता है। हिंदी में एक कहावत है... *"बाज़ के बच्चे मुँडेर पर नही उड़ते।"* बेशक आज हमारे पदाधिकारी व कार्यकर्ता खुद को छोटी पार्टी का मानते हो पर अभी तो मुश्किलों से रूबरू होना बाकी है। हम कोई एक दो राज्यो में लड़ने वाले राजनीतिक दल नही हम जज्बा रखते है कि पुर हिंदुस्तान में अपने कमांडो जैसे तेज़ ईमानदार कार्यकर्ताओ को चुनाव जीता कर एक नया कीर्तिमान स्थापित करे , यकीन रखे आप मैं आपके साथ हर पल हैं आप के होसलो को टूटने नही दूंगा आसपा का निर्माण नई देश मे एक नई क्रांति लनेबको हुआ है।इसमें कमजोर सिपाही नही बुलंद होसलो वाले आ धैर्य के साथ पारी के नियमो का पालन करने वाले योद्धाओ / कार्यकर्ताओ की जरूरत है।आप खुद को राजनीतिक व सामाजिक मुश्किलों से रूबरू कराइए, खुद को भ्रष्ट लोगो से व विपक्षी से लड़ना सिखाए। बिना आवश्यकता के भी राजनीति जगत में संघर्ष करना सीखिए। के साथियो को उनकी सोच ने "ब्रायलर मुर्गे" जैसा बना दिया है जिसके पास मजबूत टंगड़ी(आपका साथी गौतम भारती का अनुभव) तो है पर चल नही सकता। वजनदार पंख(आसपा) तो है पर उड़ नही सकता क्योंकि...* _**"गमले के पौधे और जंगल के पौधे में बहुत फ़र्क होता है।"**_ आप के हर देश हित व लोक हित के काम मे मैं गौतम भारती आपके साथ हूँ। अगर किसी साथी या कार्यकर्ता को कोई कष्ट हुआ हो तो दिल से माफी मांगता हूँ। जय हिंद, जय भारत, आपका साथी, गौतम भारती, सेवक/अध्यक्ष, आसपा, चुनाव निशान, (निब पेन सात किरणों के साथ)

Hi.! all friends i am Bharti Singh, i live in India, i do work in India university, and i am single now, my age is 25 years old or i have site http://www.noidacare.com

edited Jan 25 at 7:18 am
 
0
reply
6
views
0
replies
1
followers
live preview
enter atleast 10 characters
WARNING: You mentioned %MENTIONS%, but they cannot see this message and will not be notified
Saving...
Saved
With selected deselect posts show selected posts
All posts under this topic will be deleted ?
Pending draft ... Click to resume editing
Discard draft